झारखंड के बड़े माओवादियों की पत्नियां भी हैं शातिर, माओवादी संगठन में मिली है अहम जिम्मेदारी

बड़े माओवादियों के पत्नियों पर भी बड़ी जिम्मेदारी
गिरफ्तार माओवादी मोतीलाल सोरेन, सुनील और राजेश के बयान से खुलासा
माओवादियों की पत्नियों को भी दिया गया है संगठन में बड़ा ओहदा

झारखंड में बड़े भाकपा माओवादी नेताओं की पत्नियों पर भी बड़ी जिम्मेदारी है। झारखंड से पोलित ब्यूरो सदस्य एक करोड़ के ईनामी प्रशांत बोस, तेलंगाना के सुधाकर रेड्डी, उतरी छोटानागपुर जोन के प्रभारी विवेक उर्फ प्रयाग की पत्नियां संगठन में बड़े ओहदों पर हैं। माओवादियों की पत्नियों की जिम्मेदारी को देखते हुए राज्य पुलिस मुख्यालय ने भाकपा माओवादियों की पत्नियों के खिलाफ भी ईनाम का ऐलान किया है। हाल में सारंडा से गिरफ्तार सैक सदस्य मोतीलाल सोरेन, गिरिडीह से गिरफ्तार सुनील मांझी और धनबाद से गिरफ्तार राजेश संथाल ने माओवादी संगठन में नेताओं व कैडरों की सक्रिय पत्नियों के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी है। कई माओवादियों की पत्नियों की गतिविधि की जानकारी पुलिस को पूर्व में नहीं थी, ऐसे में उनके खिलाफ ओहदे के आधार पर ईनाम घोषित किया जाएगा।
प्रशांत बोस की पत्नी शीला दी को बताया था सीसी मेंबर
सैक सदस्य सुनील मांझी ने गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में पोलित ब्यूरो व सेंट्रल कमेटी मेंबर्स के बारे में बताया था। सुनील ने प्रशांत बोस की पत्नी शीला दी को सीसी मेंबर बताया था। पुलिस के द्वारा सीसी मेंबर पर एक करोड़ा का ईनाम घोषित है। हालांकि झारखंड पुलिस के 150 फरार नक्सलियों की लिस्ट में शीला का नाम दर्ज नहीं है।
एक करोड़ के ईनामी विवेक की पत्नी जया पर 25 लाख का ईनाम
उतरी छोटानागपुर जोन में सक्रिय सेंट्रल कमेटी मेंबर विवेक उर्फ प्रयाग पर एक करोड़ का ईनाम है। विवेक की पत्नी जया उर्फ चिंता नक्सलियों के नवगठित बिहार पूर्वोतर झारखंड स्पेशल एरिया कमेटी की सैक सदस्य है। जया पर सरकार ने 25 लाख का ईनाम रखा है। पुलिस को जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक, जया सैक सदस्य सहदेव सोरेन उर्फ अमलेश उर्फ अनुज के दस्ते में है।
तेलंगाना के सुधाकर की पत्नी नीलिमा भी 25 लाख की ईनामी
साल 2015 में तेलंगाना के सुधाकर रेड्डी का तबादला कर संगठन ने सारंडा भेजा था। उसके उसकी पत्नी नीलिमा उर्फ पदमा भी आयी थी। बाद में दोनों ने कोयलशंख जोन के बूढ़ापहाड़ को अपना कार्यक्षेत्र बनाया। झारखंड में माओवादियों ने नीलिमा को सैक सदस्य के तौर पर प्रमोट किया है। नीलिमा पर राज्य पुलिस ने 25 लाख का ईनाम रखा है।
सेंट्रल टेक्लिकल संतोष उर्फ विश्वनाथ की पत्नी है जोनल मेंबर
माओवादियों के सेंट्रल टेक्निकल मेंबर विश्वनाथ पर 25 लाख का ईनाम है। बारूदी सुरंग बनाने, गोला बारूद बनाने का विशेषज्ञ विश्वनाथ 2015 में झारखंड आया था। उनकी पत्नी पूनम को झारखंड में जोनल कमांडर बनाया गया है। पूनम पर सरकार ने 10 लाख का ईनाम रखा है।
सैक सदस्यों की पत्नियों को नारी मुक्तिसंघ की जिम्मेदारी
25 लाख के ईनामी व सैक सदस्य नंदलाल मांझी की पत्नी पत्नी चांदमुनी माओवादियों के अग्र संगठन नारी मुक्ति संघ की प्रमुख है। 25 लाख के ईनामी चमन उर्फ लंबू की पत्नी दूला देवी भी नारी मुक्ति संघ में बड़े ओहदे पर है। गिरफ्तार सैक सदस्य राजेश संथाल की पत्नी अंकिता मुर्मू भी नारी मुक्ति संघ में थी। 25 लाख के ईनामी अनल की बहन करूणा भी सैक की सदस्य है, वह भी नारी मुक्ति संघ में काम कर चुकी है।
इन माओवादियों की पत्नियां भी हैं सक्रिय
– मोतीलाल के दस्ते में माओवादी अपटन की पत्नी मेरिना सिरका सक्रिय है। वह .303 राइफल का इस्तेमाल करती है।
– प्रशांत बोस का इलाज कराने वाला एमबीबीएस डॉ रफीम अपनी पत्नी रिंकी के साथ सक्रिय है।
-सैक सदस्य चमन उर्फ लंबू के दस्ते में माओवादी कांडे होन्हागा की पत्नी अमिता सक्रिय है।
– 25 लाख के ईनामी अनमोल के दस्ते में रणवीर पात्रो व उसकी पत्नी अलवीना उर्फ शांति, दर्शन हांसदा की पत्नी निर्मला सक्रिय है।
– उतरी छोटानागपुर जोन में 25 लाख के ईनामी चंचल हेंब्रम उर्फ विरसेन की पत्नी रीता सक्रिय है।
– माओवादियों के अग्र संगठन झारखंड ए वन में उत्पल की पत्नी नीलमणी सक्रिय है।
– 10 लाख के ईनामी प्रशांत मांझी की पत्नी प्रभा भी गिरिडीह में उग्रवादी दस्ते में है।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*