श्रद्धा मर्डर केस में पुलिस के हाथ लगा CCTV फुटेज, आफताब की करतूत का सामने आयेगा सच

दिल्ली : चर्चित श्रद्धा वालकर हत्याकांड में दिल्ली पुलिस को एक CCTV फुटेज हाथ लगी है. जिससे इस मामले की जांच में सहूलियत मिलने की उम्मीद की जा रही है. पुलिस सीसीटीवी फुटेज की जांच कर रही है. पुलिस के हाथ जो सीसीटीवी फुटेज लगी है, उसमें आरोपी आफताब के हाथ में एक बैग दिख रहा है. ऐसी संभावना व्यक्त की जा रही है कि आफताब श्रद्धा के शव के टुकड़ों को ठिकाना लगाने जा रहा है. सीसीटीवी फुटेज में आरोपी आफताब तीन चक्कर लगाते हुए दिख रहा है. पुलिस को भी शक है कि आफताब बॉडी पार्ट को ठिकाना लगाने जा रहा है.

श्रद्धा के शव के टुकड़ों का पता लगाने के लिए आफताब को दक्षिण दिल्ली ले जाएगी पुलिस

दिल्ली पुलिस आफताब अमीन पूनावाला को दक्षिणी दिल्ली में विभिन्न स्थानों पर ले जाएगी क्योंकि पुलिस उसकी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वालकर के शव के और हिस्सों का पता लगाना चाहती है. पुलिस ने अब तक शव के 13 हिस्से बरामद किए हैं, जिनमें ज्यादातर हड्डियां हैं. सूत्रों के हवाले से खबर है कि पुलिस ने गुरुग्राम से शरीर के कुछ अंग बरामद किए जिन्हें फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा. पीड़िता का सिर अभी भी नहीं मिला है.

आफताब के घर से एक धारदार हथियार बरामद

पुलिस ने बताया कि उसने पूनावाला के घर से एक धारदार चीज बरामद की है और इसकी जांच की जाएगी कि क्या इसका इस्तेमाल वालकर के शव को काटने के लिए किया गया था.

बरामद कंकाल का होगा डीएनए टेस्ट

पुलिस ने कहा कि पीड़िता के पिता और भाई के रक्त के नमूने एकत्र किए गए हैं ताकि अब तक बरामद कंकाल के डीएनए से उनका मिलान किया जा सके. गौरतलब है कि आफताब के नार्को टेस्ट को भी अनुमति मिल गयी है. दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस को पांच दिनों के भीतर आफताब अमीन पूनावाला का नार्को परीक्षण पूरा करने का निर्देश दिया है.

क्या है मामला

गौरतलब है कि आफताब पूनावाला ने 18 मई को वालकर (27) को कथित तौर पर गला घोंटकर मार डाला था और उसके शरीर के 35 टुकड़े करके दक्षिण दिल्ली के महरौली स्थित अपने आवास पर लगभग तीन सप्ताह तक 300 लीटर के फ्रिज में रखा और फिर उन्हें आधी रात के बाद शहर में कई जगहों पर फेंकता रहा था. पुलिस सूत्रों ने बताया कि कथित तौर पर आरी महरौली-गुरुग्राम रोड स्थित एक दुकान से खरीदी गई थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*