पटना AIIMS में नर्सिंग स्टाफ प्रेमी के ब्लैकमेलिंग से थी परेशान, फोटो वायरल करने की देता था धमकी

मृतक लड़की की फाइल फोटो।

रांची: पटना AIIMS में नर्सिंग स्टाफ ऊषा रानी लकड़ा (28 साल) अपने प्रेमी के ब्लैकमेलिंग से परेशान थी। बॉयफ्रेंड के शक करने की आदत ने उसे परेशान कर दिया था। उसे वर्किंग आवर में वीडियो कॉल कर, जानने की कोशिश करता कि वो किसी और के साथ तो नहीं।

फोन नहीं उठाने पर उसकी निजी तस्वीरें वायरल करने की धमकी देता। इन सब ने ऊषा का जीना मुश्किल कर दिया था, हारकर उसने अपनी जान दे दी। ये अहम खुलासे ऊषा की एक दोस्त ने किए हैं।

बता दें कि 20 जून को अपने कमरे में सुसाइड कर लिया था। अपने सुसाइड नोट में उसने ‘अमित टोप्पो’ का जिक्र करते हुए उसे ही मौत का जिम्मेदार बताया था।

मामले में फुलवारी शरीफ थाना में FIR दर्ज हुई है। केस की जांच अधिकारी अन्नू प्रिया के अनुसार, अमित टोप्पो की गिरफ्तार के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है।

घटना की पड़ताल करने के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। AIIMS में ही ऊषा की एक सहकर्मी ने कई जानकारियां दी हैं। पहचान छिपाने की शर्त पर उसने बताया, ‘वह हमेशा खुश रहनेवाली और दूसरों को सहयोग करनेवाली लड़की थी।

अमित टोप्पो से उसकी मुलाकात सोशल साइट पर हुई थी। दोनों में करीब 3 साल से अफेयर था, लेकिन इधर कई महीनों से अमित उसे परेशान करने लगा था।’

सहकर्मी के अनुसार, अमित वर्किंग आवर में फोन नहीं उठाने पर गाली-गलौज करता था। कभी भी कॉल करता तो चाहता कि ऊषा उससे बात करे।

वह अगर कहती कि ऑफिस में काम पर हैं तो वीडियो कॉल कर चेक करता कि सच क्या है। उसे हमेशा शक रहता था कि ऊषा कहीं किसी डॉक्टर के प्यार में तो नहीं पड़ गई।

फोन नहीं रिसीव करने पर कहता कि तुम किसी और से प्यार करने लगी हो और अभी भी किसी और के साथ हो।

फोटो-वीडियो वायरल करने की दे रहा था धमकी

सहकर्मी ने यह भी बताया कि अमित के पास ऊषा की कुछ फोटो-वीडियो थे, जिन्हें लेकर वो हमेशा धमकी दिया करता था। कहता था कि अगर उसकी बात नहीं मानी और हर कॉल रिसीव नहीं किया तो उन फोटो को सार्वजनिक कर देगा। ऊषा का जीवन बर्बाद कर देगा।

अमित की दी गई धमकियों की वजह से ऊषा हमेशा सहमी रहती थी। अपने जीवन को हमेशा कोसती रहती और उदास रहती थी। वो उस दिन को सबसे बुरा मानती थी, जब वो अमित टोप्पो से मिली थी। उसे क्या पता था कि ऑनलाइन मिलने वाला प्यार एक दिन उसके जीवन के अंत का कारण बनेगा।

इधर ऊषा के पिता विलचूस लकड़ा ने बताया कि उनकी बेटी के फोन की जांच की जाए तो सब पता चल जाएगा। उन्होंने पुलिस की शिथिलता पर सवाल उठाते हुए बच्ची को न्याय दिलाने की गुहार लगाई।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*