धनबाद के जज हत्या मामला : नार्को टेस्ट में ऑटो चालकों ने स्वीकार किया की धक्का मारते समय पता था कि वो जज को मार रहा है

धनबाद : जज उत्तम आनंद के मौत के मामले में अब नई कहानी निकल कर सामने आ रही है। शुक्रवार को एडिशनल सोलिस्टर एसवी राजू ने CBI की ओर से पेश सभी जांच रिपोर्ट और नार्को टेस्ट रिपोर्ट का हवाला देकर कोर्ट में दलील पेश की। इस दौरान उन्होंने बताया कि धक्का मारने से पहले ऑटो चालकों को जानकारी थी कि उक्त व्यक्ति जज है। नार्को टेस्ट में भी ऑटो चालकों ने स्वीकार किया कि वे जज को जानते थे। उनके हाथ में मोबाइल की जगह रुमाल है।

इस पर कोर्ट ने कहा कि CBI को मामले की सही से जांच करनी चाहिए। आरोपियों को बचाने के लिए कोर्ट में सीबीआई तर्क न पेश करें। मामले की अगली सुनवाई 28 जनवरी को होगी। कोर्ट ने कहा कि CBI की जांच मामले में अलग कहानी कह रही है, जबकि सबूत कुछ और कह रहे हैं।

CBI की जांच से लगातार असंतुष्ट है कोर्ट
इससे पहले की सुनवाई में भी कोर्ट ने CBI जांच से अंसतुंष्टि व्यक्त की थी। कोर्ट ने नार्को टेस्ट समेत आरोपियों की सभी जांच रिपोर्ट कोर्ट को उपलब्ध कराने का आदेश दिया था। कोर्ट ने सीबीआई को पहले ही कहा था कि जितना अधिक समय लगेगा उतने ही अधिक तथ्य ढूंढने होंगे। CBI ने कहा है कि वे हर संभव कोशिश कर रही है। ब्रेन मैपिंग और नारको टेस्ट में भी उन्हें कुछ नहीं मिला और भी कुछ टेस्ट किए गए हैं जिनके रिपोर्ट अभी आने बाकी है। CBI का कहना था कि हो सकता है मोबाइल लूट की कोशिश में उनकी हत्या की गई है। इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि सीसीटीवी में लूट की कोई घटना दिखाई नहीं दी है.जबकि यह स्पष्ट दिखाई दिया कि उन्हें जानबूझकर मारा गया है।

मॉर्निंग वाक के दौरान हुई थी हत्या
गौरतलब है कि 28 जुलाई की सुबह करीब 5 बजे एडीजे उत्तम आनंद मॉर्निंग वॉक पर निकले थे, तभी एक ऑटो ने उन्हें पीछे से टक्कर मार दी थी। इस घटना में एडीजे की मौके पर ही मौत हो गई थी. उधर, पूरी घटना पास में लगे सीसीटीवी में कैद हो गई थी, जिसके आधार पर मामले की जांच की जा रही है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*