डॉक्टर महबूब अंसारी अपहरण मामला: 48 घंटे के अंदर पुलिस ने मुक्त कराया; दो आरोपी गिरफ्तार

पलामू: इलाज करवाने के बहाने परिचित ने डॉक्टर महबूब अंसारी को बुलाया और फिर अपहरण कर लिया. अपहरण के बाद परिजनों से दो लाख की फिरौती भी मांगी. बाद में अपहृत डॉक्टर के खाते से 25 हजार रुपये अपने खाते में भी ट्रांसफर करवा लिया. लेकिन पुलिस की तत्परता से अपहृत को 48 घंटे के अंदर मुक्त करवा लिया गया और दो अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है. पलामू के पाकी थाना क्षेत्र के रहने वाले डॉक्टर महबूब अंसारी को उसके परिचित कलाम अंसारी ने इलाज करवाने के बहाने घर के पास बुलाया था. बुलाने के बाद उसका अपहरण कर लिया. अपहरण के बाद उसके परिजनों से फोन कॉल पर दो लाख रुपये की फिरौती मांगी गई.

अपहरण के बाद महबूब अंसारी को तरहसी और पांकी के सीमावर्ती जंगल चिल्हो में रखा गया. पूरी घटना 12 जनवरी की है. इस संबंध में परिजनों ने पाकी थाना में सनहा दर्ज करवाया था. पूरे मामले में पुलिस तकनीकी अनुसंधान के आधार पर अपहरणकर्ताओं के पास पहुंची. पुलिस ने चिल्हो जंगल में छापेमारी कर महबूब अंसारी को मुक्त करवाया. लेस्लीगंज एसडीपीओ आलोक कुमार टूटी ने बताया कि अपहृत डॉक्टर महबूब अंसारी ग्रामीण चिकित्सक हैं और बैंक में केसीसी का काम करवाता है. पैसे की लालच में कलाम ने उसका अपहरण किया था. इस घटना में कलाम के साथ-साथ अर्जुन भुइयां और सुधीर भूइयाँ शामिल थे, दोनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

कलाम की योजना अपहरण के बाद फिरौती वसूल कर हत्या करने की थी. कलाम अंसारी फरार है. पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है. एसडीपीओ ने बताया कि कलाम अंसारी कुछ साल पहले लव मैरिज करने के बाद लोहरदगा शिफ्ट हो गया है. वह पहले भी कई आपराधिक घटनाओं में जेल जा चुका है. इस पूरे अभियान में पाकी इंस्पेक्टर जगन्नाथ धान, सब इंस्पेक्टर हीरालाल साह और गुलशन गौरव शामिल थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*