आदवासी युवती हेमा मुंडा की पत्ते की टोपी हुई हिट, प्रकृति प्रेम ने दिलाया मैच का पास

रांची : दशम फॉल की रहने वाली आदवासी युवती हेमा मुंडा के हाथों से बुनी पत्ते की टोपी को जेएससीए उपाध्यक्ष श्री अजय नाथ शाहदेव ने लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर को भेंट स्वरुप पहनाकर स्वागत किया।

हुआ कुछ यूं कि आज भारत न्यूजीलैंड टी-20 मैच के मद्देनजर जेएससीए के उपाध्यक्ष अजय नाथ शाहदेव ग्राउंड के बाहर व्यवस्था का जायजा ले रहे थे। वहीं उनकी नजर पत्ते से बनी टोपियां बेचती एक युवती पर पड़ी।श्री शाहदेव ने युवती से बात किया उसने अपना नाम हेमा मुंडा बताया। उसने बताया कि वो अपने पिता और छोटे भाइयों के साथ टोपी बेचने आयी है,साथ ही बताया कि वह रांची के एक कालेज की छात्रा है।

स्वरोजगार कर अपने तथा घर के खर्च पुरा करती है।श्री शाहदेव उसकी बातों से बेहद प्रभावित हुए और उन्होंने इसकी सुचना जेएससीए के पूर्व अध्यक्ष अमिताभ चौधरी को दिया। श्री चौधरी ने इसे गंभीरता से लेते हुए कहा कि यह स्थानीय कला और स्वाललंबी युवती को अंतरराष्ट्रीय मैच के समय सम्मान करने का बेहतर मौका है। उन्होंने अजय नाथ शाहदेव जी को हेमा मुंडा, उसके पिता और भाइयों को सम्मानपूर्वक मैच के टिकट देने का निर्देश दिया।

अजय नाथ शाहदेव ने जेएससीए पदाधिकारियों संग हेमा मुंडा को मैच का टिकट दिया और उसके बनाए हुए बेहद खूबसूरत टोपियां भी खरीदा।


हेमा मुंडा काफी खुश हुई, उसने बताया कि उसने मैच देखने का मौका मिलेगा यह कभी नहीं सोचा था।हेमा ने कहा कि श्री अजय नाथ शाहदेव ने मेरी जैसी छोटे गांव की रहने वाली लड़की और मेरे परिवार को इतना सम्मान दिया जो मैंने सोच भी नहीं सकती।
आज मैं पहली बार अंतर्राष्ट्रीय मैच देखुंगी यह मेरे लिए किसी सपने के सच होने जैसा है।

श्री शाहदेव ने कहा कि उन्हें आज पहली बार अंतर्राष्ट्रीय मैच के आयोजन पर पत्ते की टोपी बिकते देखा। स्थानीय कला और हमारे झारखंड की प्रतिभा को सम्मानित करने का ये बेहतर मौका भी था। सबसे खुशी की बात यह है कि हेमा की टोपी को आज लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर ने सहर्ष स्वीकार किया।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*