जमुई में शराबबंदी में जाम छलका रहे थे BJP नेता, 2 साथियों समेत हुए गिरफ्तार

जमुई: बिहार के जमुई  जिले में पुलिस ने शराब पीने के आरोप में भाजपा नेता भगवान पांडेय समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. भगवान पांडेय भाजपा जमुई जिला सोशल मीडिया आईटी सेल के जिला संयोजक है. भाजपा नेता समेत अन्य दोनों लोगों को गोला गांव के समीप से चकाई पुलिस ने गिरफ्तार किया. बताया जाता है कि भगवान पांडेय भाजपा जिला अध्यक्ष कन्हैया सिंह सहित कई बड़े नेताओं का करीबी है.

भाजपा नेता समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर पुलिस चकाई थाने लेकर आयी. वहां ब्रेथ एनेलाइजर मशीन से जांच में तीनों के शराब पीने की पुष्टि हुई. पुलिस सुसंगत धाराओं में मामला दर्ज कर आगे की कार्यवाई में जुट गयी है. बताते चले कि बिहार में जहरीली शराब से मौतों को लेकर हलचल है. राज्य सरकार की काफी किरकिरी हो रही है. विपक्षी दलों ने सरकार पर हमला बोल दिया है.

खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि छठ महापर्व के बाद शराबबंदी को लेकर समीक्षा बैठक की जाएगी. शराबबंदी को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए बड़ा अभियान चलाया जाएगा. उन्होंने कहा कि सभी से हम पहले से कह रहे थे, गलत लोगों के चक्कर में न पड़ें. लगातार पुलिस और प्रशासन की ओर से कार्रवाई की जाती है. लोग गिरफ्तार होते हैं. अवैध शराब बरामद की जाती है.

इससे पहले उन्होंने कहा था कि महिलाओं की मांग पर हमने बिहार में पूर्ण शराब बंदी लागू की लेकिन कुछ लोग ही गड़बड़ करने वाले हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि जब हमने शराबबंदी की थी तो कुछ लोग विरोध में बोलने लगे थे. शराबबंदी के खिलाफ कुछ ही लोग विरोध में हैं, ज्यादातर लोग इसके समर्थन में ही हैं. जहां तक पुलिस प्रशासन की बात है तो ऐसे लोगों पर लगातार कार्रवाई हो रही है. ऐसे लोग जेल जा रहे हैं, सजा भी मिल रही है. लेकिन, हर जगह गड़बड़ी करने वाले लोग हैं. लोगों को समझना होगा कि शराबबंदी उनके हित में है. इधर, हम लोगों का ध्यान कोरोना पर भी था, लेकिन जल्द ही फिर हम इसकी समीक्षा करेंगे.

उधर गोपालगंज और पश्चिमी चंपारण के जिलों में पिछले दो दिनों में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 33 हो गई है. चंपारण रेंज के डीआईजी ने प्रथम दृष्टया रिपोर्ट के अनुसार नौतन थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से मौत की पुष्टि की है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*