जमशेदपुर पहुंची तीरंदाज कोमोलिका बारी और कोच पूर्णिमा का जोरदार स्वागत, आर्चरी संघ से मिला सम्मान

जमशेदपुर: भारतीय महिला रिकर्व टीम की खिलाड़ियों ने ओलंपिक में अपना स्थान पक्का कर लिया है. टीम की सदस्य तीरंदाज दीपिका कुमारी, कोमोलिका बारी और अंकिता भकत ने एक बार फिर झारखंड समेत भारत का नाम विश्व पटल पर रोशन किया है. तीरंदाजी विश्वकप में मेक्सिको को हराकर भारतीय महिला रिकर्व टीम ने गोल्ड पर कब्जा जमाया था.

जमशेदपुर की बेटियों का जलवा

महिला तीरंदाज जमशेदपुर के टाटा आर्चरी अकैडमी की खिलाड़ी हैं. वहीं, विश्वकप के लिए भारतीय टीम की कोच भी जमशेदपुर की पूर्णिमा महतो हैं. बुधवार को विश्वकप तीरंदाजी में स्वर्ण जीतने के बाद कोच पूर्णिमा महतो और तीरंदाज कोमोलिका बारी जमशेदपुर पहुंची. इस दौरान शहर ने उन्हें जमकर प्यार दिया. झारखंड तीरंदाजी संघ समेत जमशेदपुर आर्चरी एसोसिएशन के पदाधिकारियों, सदस्यों ने कोमोलिका बारी और पूर्णिमा महतो के घर पहुंचकर इनका अभिनंदन और सम्मान किया.

साथ ही कोमोलिका के माता-पिता को भी मिठाई खिलाकर बधाई दी गई.ओलंपिक में गोल्ड जीतने का लक्ष्यपूर्वी सिंहभूम आर्चरी संघ के जिलाध्यक्ष दिनेश कुमार और कोच हरेंद्र सिंह ने एसोसिएशन के पदाधिकारियों और सदस्यों संग कोच पूर्णिमा महतो और स्वर्ण विजेता कोमोलिका बारी के घर पहुंचकर सम्मानित किया. इस दौरान इन्हें पुष्पगुच्छ और प्रतीक चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया. महिला आर्चर कोमोलिका बारी ने शहर की ओर से मिले प्यार और सम्मान के लिए आभार जताया.

उन्होंने कहा कि विश्वकप में स्वर्ण जीतना रोमांचक अनुभव था, लेकिन ओलंपिक में स्वर्ण जीते बगैर लक्ष्य फिलहाल अधूरा है. कोच पूर्णिमा महतो, टाटा आर्चरी अकैडमी, विश्व की नंबर एक तीरंदाज दीपिका के साथ, मार्गदर्शन और प्रोत्साहन से कठिन लक्ष्य भी आसान बन जाते हैं. महिला रिकर्व टीम का ये शानदार प्रदर्शन बेहतरीन कमिटमेंट और टीमवर्क का अप्रतिम उदाहरण है. कोमोलिका भकत ने कहा कि उनका निशाना अब ओलंपिक में स्वर्ण जीतने पर है.

झारखंड की प्रतिभा पर पूर्ण विश्वास

दिनेश कुमारझारखंड तीरंदाजी संघ के उपाध्यक्ष दिनेश कुमार ने भी सम्मानित करते हुए कहा कि उन्हें झारखंड की प्रतिभा पर पूर्ण विश्वास है. उन्होंने कहा कि विश्वकप तो केवल झांकी है, ओलंपिक का महाविजय अभी बाकी है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को बेहतर माहौल और सुविधा मुहैया कराने की दिशा में आर्चरी एसोसिएशन सदैव कटिबद्ध है. इस दौरान कोच हरेंद्र सिंह, रवि कुमार, राष्ट्रीय आर्चर प्रयाग राज सिंह, पेंटाकोटा हर्षिका, पेंटाकोटा लक्ष्मण, पेंटाकोटा वंदना, के मनीष, घनश्याम बारी, लक्ष्मी बारी
समेत अन्य मौजूद रहे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*