ओरमांझी मामला : युवती हत्याकांड में आरोपी शेख बेलाल द्वारा नमक में सिर रखकर गलाने की थी योजना, रांची पुलिस ने सिर को खेत से किया बरामद

Joharlive Team

रांची। ओरमांझी थाना क्षेत्र में सिर कटी लाश मामले में युवती का सिर बरामद कर लिया है। घटना के 9 दिनों बाद पुलिस ने युवती का सिर रांची के पिठौरिया थाना क्षेत्र के चंदवे बस्ती से बरामद किया है। एसएसपी सुरेन्द्र कुमार झा के निर्देश पर गठित टीम और क्यूआरटी ने युवती के सिर को रेलवे ट्रैक के किनारे खेत से बरामद किया है। हालांकि, अभी तक युवती का हत्यारा शेख बेलाल पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। एसएसपी खुद उसकी धर पकड़ के लिए पूरी टीम के साथ लगातार छापेमारी कर रहे है। वहीं, एसएसपी ने बेलाल के बारे में जानकारी देने वाले को 1 लाख रुपये इनाम देने की भी बात बोला है। आरोपी बेलाल युवती के सिर को नमक में डालकर रखा था। आरोपी ने ऐसा इसलिए किया, ताकि नमक में सिर गल जाये। घटनास्‍थल पर स्निफर डॉग को भी लाया गया है। युवती का वस्‍त्र अब तक बरामद नहीं हुआ है। शेख बेलाल की दूसरी पत्नी और बेटा हिरासत में हैं। पत्नी की निशानदेही पर ही सिर बरामद हुआ है।
मालूम हो कि तीन जनवरी को ओरमांझी थाना क्षेत्र में साईं नाथ विश्वविद्यालय के बगल में युवती की सिर कटी निर्वस्त्र लाश मिली थी। सिर को नमक डालकर नष्ट करने की तैयारी थी।

कैसे खुला राज और सिर तक पहुंची रांची पुलिस
ओरमांझी थाना क्षेत्र में साईं नाथ विश्वविद्यालय के पास जीराबेड़ा स्थित पलास के जंगल में तीन जनवरी को एक अज्ञात युवती की सिरकटी निर्वस्त्र लाश बरामद हुई थी। पुलिस ने सिर खोजने की पूरी कोशिश की और युवती का पता बताने व आरोपित की जानकारी देने वालों के लिए पांच लाख रुपये के इनाम की घोषणा भी कर दी। इसी बीच 10 जनवरी को एक अनजान व्यक्ति ने रांची पुलिस को सूचना दी कि चान्हो थाना क्षेत्र के चटवल गांव निवासी एक दंपत्ति मोहम्मद कुतुबुद्दीन व राबिया की बेटी सूफिया परवीन दो माह से लापता है।
सूफिया के माता-पिता पुलिस के पास पहुंचे और बेटी का पहचान चिह्न भी बताया, जिससे बहुत हद तक पहचान चिह्न मिल गया। इसके बाद पुलिस ने डीएनए जांच के लिए माता-पिता का नमूना भी लिया। माता-पिता ने पुलिस को बताया कि उनकी पुत्री सूफिया छह बहन व तीन भाइयों में पांचवें स्थान पर थी। सूफिया से चान्हो के बलसोकरा गांव निवासी मोहम्मद खालिद ने प्रेम विवाह किया था। मोहम्मद खालिद पहले से शादीशुदा था, उसका ससुराल सूफिया के मायके के पड़ोस में था। वहां आने-जाने के दौरान उसकी सूफिया से दोस्ती हो गई थी और उसने शादी कर ली थी। मोहम्मद खालिद सूफिया को लेकर दिल्ली गया था। वहां खालिद से खटपट होने के बाद सूफिया भागकर चान्हो स्थित मायके आ गई थी। इसी बीच सूफिया की मुलाकात पिठोरिया के चंदवे बस्ती निवासी आपराधिक चरित्र के युवक शेख बेलाल से हो गई। सूफिया की बड़ी बहन की शादी चान्हो के ही सोंस निवासी एहसान खान से हुई थी। एहसान खान रिश्ते में शेख बेलाल का मौसेरा भाई है। इसके यहां आने-जाने के दौरान ही शेख बेलाल व सूफिया में दोस्ती हुई थी। शेख बेलाल पहले से शादीशुदा है। उसकी पहली पत्नी साबो के अलावा एक 14 साल का बेटा व एक बेटी है। अब उसने गत वर्ष 2020 में सूफिया से दूसरी शादी कर उसे भी अपने चंदवे बस्ती स्थित घर में लाया। घर में आने के बाद सूफिया का शेख बेलाल की पहली पत्नी से विवाद होने लगा। एक दिन शेख बेलाल ने भी सूफिया के साथ मारपीट की। इसके बाद मई 2020 में सूफिया ने पिठोरिया थाने में शेख बेलाल पर दहेज उत्पीड़न व मारपीट का केस करवा दिया। एक माह बाद ही जून में शेख बेलाल अवैध हथियार के साथ पिठोरिया थाने की पुलिस के हाथों पकड़ा गया और जेल भेजा गया। जेल जाने के बाद उसने सूफिया पर आरोप लगाया कि उसने ही अवैध हथियार की जानकारी पुलिस को दी, जिसके बाद वह पकड़ा गया। शेख बेलाल की गिरफ्तारी के बाद सूफिया अपने चान्हो स्थित मायके चली गई थी। इधर, कुछ माह बाद ही शेख बेलाल जेल से छूट गया, वहीं सूफिया भी हत्या से दो माह पूर्व यानी नवंबर महीने में अचानक लापता हो गई और तब से ही उसका कोई अता-पता नहीं था।
सूफिया के माता-पिता के सामने आने के बाद पुलिस को यह विश्वास हो गया कि जहां शव बरामद किया गया है, वह घटनास्थल शेख बेलाल के घर से दो किलोमीटर की दूरी पर है। धीरे-धीरे आशंका प्रबल होती गई। इसके बाद पुलिस ने शेख बेलाल की पत्नी व बेटे को उठा लिया और सख्ती से पूछताछ की तो दोनों टूट गए। इसके बाद उनकी निशानदेही पर मंगलवार को सूफिया का सिर भी बरामद कर लिया गया।

दंपत्ति द्वारा युवती के शव पर अपनी बेटी होने का किया दावा
रांची पुलिस के अनुसार चान्‍हो की दंपत्ति द्वारा युवती के शव पर अपनी बेटी होने का दावा किए जाने के बाद डीएनए मैच कराने की प्रक्रिया जारी है। डीएनए से मैच कराने के बाद ही परिजन को युवती का शव सौंपा जाएगा। खून से सना युवती का सिर कटा शव मिलने के बाद पुलिस ने सिर खोजने के लिए अथक प्रयास किए। इसके लिए सैकड़ों पुलिसकर्मियों को जंगल में सिर ढूंढने के लिए भी लगाया गया था।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*