‘हर घर में नल से जल’ का लक्ष्य प्राप्त कर लेंगे तीन और राज्य

Joharlive Desk

नयी दिल्ली, 15 अक्टूबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जल जीवन मिशन के तहत ‘हर घर में नल से जल’ पहुंचाने के सपने को तीन और राज्य जल्द ही साकार करने की स्थिति में पहुंच चुके है जिनमे तेलंगाना शीघ्र मिशन का सौ फीसदी लक्ष्य हासिल करने वाला देश का दूसरा राज्य बन जायेगा।

गोवा ने पिछले सप्ताह ही जल जीवन मिशन के तहत अपने सभी ग्रामीण परिवारों को ‘हर घर में नल से जल’ देने के लक्ष्य को हासिल कर पहले राज्य का सम्मान प्राप्त किया है। तेलंगाना इस क्रम में 98 फ़ीसदी से ज्यादा परिवारों को नल से जल पहुंचाने का कार्य कर चुका है जबकि पुड्डुचेरी 87 प्रतिशत से अधिक और गुजरात 80 फीसदी से ज्यादा का लक्ष्य हासिल कर चुका है।

मिशन के तहत पिछले एक साल के दौरान अब तक 2.38 करोड़ ग्रामीण परिवारों को नल से जल उपलब्ध कराया जा चुका है। योजना का फोकस ग्रामीण महिलाओं तथा बच्चों पर ज्यादा है और इसके तहत अभियान चलाकर उनको शुद्ध पेय जल उपलब्ध कराना है। प्रधानमंत्री का कहना है कि पेयजल संकट से सबसे ज्यादा ग्रामीण महिलाओं को जोझना पड़ता है और यदि जल जीवन मिशन के तहत हर घर को नल से पानी पहुंचाया जाता है तो इससे ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं के जीवन मे सबसे ज्यादा सुधार और सबसे बड़ा बदलाव आएगा।

श्री मोदी ने पिछले वर्ष 15 अगस्त को लाल किला से देश के हर परिवार को ‘नल से जल देने’ के लिए ‘जल जीवन मिशन’ की घोषणा की थी जिसके तहत एक साल के भीतर अब तक 29.55 प्रतिशत घरों को मिशन से जोड़ा जा चुका है। जब श्री मोदी ने यह घोषणा की थी तो महज 17.02 फ़ीसदी घरों तक नल से जल पहुंचाने का काम हुआ था लेकिन प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद इसे मिशन के तौर पर आरंभ किया गया।

प्रधानमंत्री का कहना है कि शुद्ध पेयजल से नागरिकों में जल जनित रोग नहीं होंगे और स्वच्छ जल से हर नागरिक स्वस्थ रह सकेगा। श्री मोदी की घोषणा के तहत देश में 19 करोड़ एक लाख 66 हजार 385 घरों को नल से जल देने का लक्ष्य रखा गया जिनमें से इस साल 14 अक्टूबर तक पांच करोड़ 61 लाख 85 हजार 224 घरों को यह सुविधा उपलब्ध कराई जा चुकी है। प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर हर आंगनबाड़ी केंद्र और हर विद्यालय को योजना से जोड़ने के वास्ते सौ दिन के विशेष अभियान की भी घोषणा की।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*