रामगढ़ : व्यवसाई की हत्या से पहले दबोचे सुजीत सिन्हा गैंग के तीन अपराधी

JoharLive Team

रामगढ़। एक व्यवसाई की हत्या करने के उद्देश्य से एकत्र हुये झारखंड के कुख्यात सुजीत सिन्हा गैंग के तीन अपराधियों को पुलिस ने दबोच लिया। रामगढ़ पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार अपराधियों ने चार कांडों में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। यह लोग रांची के प्रसिद्ध व्यवसाई सुमित चटर्जी की हत्या करने वाले थे।
घटना के संबंध में शुक्रवार को एसपी प्रभात कुमार ने बताया कि गुरुवार को पुलिस को सूचना मिली थी कि तालाटांड कब्रिस्तान के पास कुछ अपराधी किसी की हत्या करने की साजिश रच रहे हैं। इस सूचना के बाद पतरातू एसडीपीओ प्रकाश चंद्र महतो के नेतृत्व में टीम ने छापेमारी गई। पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया लेकिन तीन अन्य भागने में सफल रहे। एसपी कुमार ने बताया कि गिरफ्तार अपराधियों में पतरातू थाने के न्यू मार्केट निवासी शूटर रंजीत साह उर्फ रंजन कुमार, बरकाकाना ओपी क्षेत्र के दुर्गी बस्ती निवासी बाबू उर्फ बाबू हजाम उर्फ बाबू हुसैन और बोकारो जिले के ललपनिया थाना के कोदवाटांड निवासी अब्दुल रहमान शामिल हैं। इनके पास से पुलिस ने दो देसी पिस्तौल, 8 गोली, छह मोबाइल, दो पल्सर बाइक और 21 हजार नकद रुपये बरामद किये हैं।
एसपी ने बताया कि पतरातू निवासी रंजीत साव उर्फ रंजन कुमार का पिछले 5 वर्षों का अपराधिक इतिहास रहा है। वह हत्या के प्रयास और लूट के मामलों में जेल भी जा चुका है। उसने 2015 के बाद पतरातू छोड़ कर रांची में नया ठिकाना बनाया। उसकी टीम में छह लोग थे। यह सभी पिठोरिया, कांके, लालपनिया और रांची में अपराध को अंजाम देते थे।
व्यवसायी सुमित चटर्जी की हत्या के लिए ली थी सुपारी
एसपी प्रभात कुमार ने बताया कि कुख्यात अपराधी सुजीत सिन्हा का राइट हैंड रांची अरगोड़ा निवासी धर्मेंद्र सिन्हा ने व्यवसाई सुमित चटर्जी की हत्या के लिए एक लाख की सुपारी शूटर रंजीत साव उर्फ़ रंजन कुमार को दी थी। रंजीत को यह रकम धर्मेंद्र सिन्हा के ड्राइवर रमेश ने पहुंचाई थी। रमेश ही उन लोगों को व्यवसाई सुमित चटर्जी को पहचान करवाने के लिये आने वाला था।
रंजीत ने लूट कांडों का किया खुलासा
एसपी ने बताया कि रंजीत साव ने रामगढ़ जिले में 24 जनवरी को कुज्जू ओपी क्षेत्र में प्रज्ञा केंद्र के संचालक संतोष कुमार से 2.53 लाख रुपये लूटे थे। इस लूट कांड में उनके साथ कुज्जू ओपी क्षेत्र के करमा निवासी शौकत अंसारी भी शामिल था। पुलिस उसे 28 जनवरी को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। एसपी के अनुसार रंजीत ने बताया कि उन लोगों ने रांची के कांके थाना क्षेत्र से एक पल्सर बाइक भी लूटी थी। उसी बाइक को व्यवसाई की हत्या को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल में लाने वाले थे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*